townaajtak@gmail.com

Tag: bihar

शहाबुद्दीन को बड़ी राहत, मिला कस्टडी पैरोल

शहाबुद्दीन को बड़ी राहत, मिला कस्टडी पैरोल

तिहाड़ जेल में बंद राष्ट्रीय जनता दल (RJD) के बाहुबली नेता रहे पूर्व सांसद मोहम्मद शहाबुद्दीन को हाई कोर्ट से राहत मिली है. दिल्ली हाई कोर्ट ने शहाबुद्दीन को छह घंटे की सशर्त ‘कस्टडी पैरोल’की अनुमति दे दी है. न्यायमूर्ति एजे भंभानी की पीठ ने बाहुबली नेता शहाबुद्दीन को किसी भी तीन दिन में छह-छह घंटे की कस्टडी पैरोल की अनुमति देते हुए पर्याप्त सुरक्षा इंतजाम के निर्देश दिये है. साथ ही पीठ ने स्पष्ट किया कि कस्टडी पैरोल के लिए शहाबुद्दीन को मुलाकात के लिए दिल्ली में ही एक स्थान की जानकारी पहले ही जेल अधीक्षक को देनी होगा. इतना ही नहीं, उक्त स्थान का सत्यापन करने के साथ ही राज्य पुलिस वहां पर्याप्त सुरक्षा इंतजाम करेगी.  शहाबुद्दीन फिलहाल तिहाड़ जेल में बंद हैं.शहाबुद्दीन ने सीवान जाने के लिए 19 सितंबर को पिता की मौत होने और मां के बीमार होने के आधार पर कस्टडी पैरोल की मांग की थी
गोपालगंज: विधायक पप्पू पांडे के करीबियों पर हमला, एक की मौत, 2 की हालत गंभीर

गोपालगंज: विधायक पप्पू पांडे के करीबियों पर हमला, एक की मौत, 2 की हालत गंभीर

गोपालगंज के जदयू विधायक पप्पू पांडे एक बार फिर चर्चा में हैं। दरअसल, गोपालपुर के राजाबाजार में पप्पू पांडे के करीबियों पर हमला हुआ है। इसमें एक शख्स देवेंद्र पांडे की मौत जबकि दो घायल हो गए हैं। जानकारी के मुकाबले संदिग्ध अपराधियों को ग्रामीणों ने पकड़ लिया है। गोपालपुर पुलिस को अपराधी को भीड़ से छुड़ाने में मशक्कत करनी पड़ी है।
अब बिहार में भी मास्क नहीं पहना तो लगेगा जुर्माना

अब बिहार में भी मास्क नहीं पहना तो लगेगा जुर्माना

बिहार में कोरोना संक्रमण पर रोकथाम के लिए सरकार मॉस्क नहीं लगाने वालों से 500 रुपए जुर्माना लगाने का प्रावधान करने जा रही है। इसके लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा बिहार महामारी कोविड-19 विनियमावली, 2020 में संशोधन करने का प्रस्ताव है। राज्य में वर्तमान में बिना मॉस्क के पाए जाने वाले व्यक्ति से 50 रुपये प्रति व्यक्ति की दर से दंड शुल्क वसूला जाता है। विभाग ने इस दंड शुल्क को 10 गुना बढाकर 500 रुपये करने का जो प्रस्ताव तैयार किया है,उस पर अंतिम निर्णय राज्य सरकार के स्तर पर लिया जाएगा। इसका मकसद मास्क के उपयोग को बढ़ावा देना है। राज्य में जुलाई के पहले सप्ताह से मॉस्क पहनना अनिवार्य किया गया है। इसके लिए जिलों के जिलाधिकारी को कार्रवाई करने का अधिकार दिया गया है। कोरोना के खिलाफ जंग में मॉस्क को बड़ा हथियार व माध्यम माना गया है। इससे नाक व मुंह के माध्यम से कोरोना वायरस शरीर में प्रवेश नहीं क
कोरोना संकट के बीच सीवान में छठ घाट को लेकर क्या है नियम?

कोरोना संकट के बीच सीवान में छठ घाट को लेकर क्या है नियम?

कोरोना संकट के बीच छठ पूजा के लिए तमाम राज्यों ने गाइडलाइन जारी की है. कुछ राज्यों के गाइडलाइन को लेकर जमकर बवाल भी हो रहा है. लेकिन सवाल है कि बिहार सरकार का इसपर क्या स्टैंड है और सीवान के प्रशासन ने क्या गाइडलाइन जारी की है.. आइए इसके बारे में विस्तार से जानते हैं.. दरअसल, सीवान डीएम अमित कुमार पांडे ने लोगों से नदी-घाटों की बजाए घर पर ही आस्था का अघर्य देने की अपील की है। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस से बचाव के लिए घर पर ही अ‌र्घ्य देकर अपने घर-परिवार को संक्रमण से सुरक्षित रखे। कोरोना काल में जिस तरह जिले के लोगों ने अन्य पर्व-त्योहार मनाया है, उसी तरह छठ महापर्व भी मनाएं। गृह विभाग के निर्देश के आलोक में डीएम ने कहा कि महत्वपूर्ण नदियों के किनारे अवस्थित घाटों पर छठ पर्व के दौरान अत्यधिक भीड़ उमड़ती है। ऐसे में दो व्यक्तियों के बीच शारीरिक दूरी का अनुपालन कराना कठिन है। डीएम ने
गोपालगंज : पत्नी से फोन पर कहा, 5 मिनट में आ रहा हूं घर, नाले में मिली लाश

गोपालगंज : पत्नी से फोन पर कहा, 5 मिनट में आ रहा हूं घर, नाले में मिली लाश

गोपालगंज में अपराधियों ने एक कपड़ा व्यापारी को पहले अगवा किया फिर उसकी हत्या कर शव को नाले में फेंक दिया। घटना बैकुंठपुर प्रखंड के पास की है, बुधवार सुबह टहलने निकले लोगों को नाले में शव दिखा। इसके बाद लोगों की भीड़ जुट गई। घटना की सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची, फिर शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। शव पर चोट के कई निशान भी हैं। मृतक की बैकुंठपुर प्रखंड के दीघवा दुबौली के निवासी कपड़ा व्यापारी संजीत कुमार के रूप में हुई है। पुलिस का कहना है कि कपड़ा व्यापारी की हत्या कहीं और की गई है और बचने के लिए अपराधियों ने शव को यहां फेंक दिया है। इधर, घटना से आक्रोशित लोगों ने महमदपुर-पटना रोड़ जाम कर दिया। एनएच 28 और एसएच 101 पर आवागमन पूरी तरह से बाधित हो गई। लोग हत्यारे की गिरफ्तारी की मांग कर रहे थे। पुलिस के समझाने के बाद लोग माने और जाम खत्म हुआ। पुलिस मामले की पड़ताल
शहाबुद्दीन ने मांगा कस्टडी पैरोल तो कोर्ट ने कहा-घर वालों को ही दिल्ली बुला लीजिए

शहाबुद्दीन ने मांगा कस्टडी पैरोल तो कोर्ट ने कहा-घर वालों को ही दिल्ली बुला लीजिए

सीवान के पूर्व सांसद मो. शहाबुद्दीन को लेकर यह बड़ी खबर है। दिल्‍ली की तिहाड़ जेल में उम्रकैद की सजा काट रहे शहाबुद्दीन ने दिल्‍ली हाईकोर्ट में याचिका दायर कर सिवान जाने के लिए ‘कस्टडी पैरोल’ मांगी है। शहाबुद्दीन ने अपनी याचिका में कहा है कि उनके पिता का बीते 19 सितंबर को निधन हो गया और उनकी मां बीमार हैं। अब इस पर कोर्ट ने कहा है कि आप घर वालों को ही दिल्ली बुला लीजिए और मिल लीजिए। दरअसल, शहाबुद्दीन की याचिका पर सुनवाई के दौरान दिल्ली व बिहार सरकार ने कस्‍टडी पैरोल में सुरक्षा का आश्वासन नहीं दिया। इसपर कोर्ट ने शहाबुद्दीन के परिवार को ही दिल्‍ली आकर मिलने का सुझाव दिया। दिल्ली सरकार ने क्या कहा मंगलवार काे जस्टिस एजे भंभानी की कोर्ट में सुनवाई के दौरान दिल्ली सरकार की तरफ से वकील संजय लाव ने कोर्ट से कहा कि बिहार में शहाबुद्दीन की सुरक्षा के लिए दिल्ली पुलिस जिम्मेदार नहीं हो सकत
कोरोना पर ये कैसी चाल, चुनाव के लिए रैली, पूजा के लिए समाजिक दूरी

कोरोना पर ये कैसी चाल, चुनाव के लिए रैली, पूजा के लिए समाजिक दूरी

राजेश तिवारी की रिपोर्ट जहां एक तरफ त्योहारी सीजन चल रहा है, वहीं चुनावी में बड़ी रैलियां ये साबित कर रहा है कि कोरोना महामारी अब सरकार की साजिश बन गई है। इस साजिश को आप उदाहरण से समझते हैं।दरअसल, दशहरा के दौरान विकास खंड बनकटा के परिक्षेत्र व सोहनपुर संवाददाता सोहनपुर कुमार प्रसाद गौंड़ की मिशन ग्रामोदय के संचालक से जमीनी तहकीकात की गई। सदियों से चली आ रही दुर्गा पुजा की परम्परा पर कोरोना महामारी की वजह से तमाम बंदिशें लगा दी गई हैं, जिससे सबकुछ उदास व फीका फीका गुजर रहा है। सोहनपुर में हर वर्ष आकर्षण का केंद्र पंडाल व मेले का हुजूम लोगों के मेल मिलाप और सौहार्द्र का एक संगम था, वह विरान और शांत लग रहा है। प्रशासन किसी भी प्रकार के कार्यक्रम की अनुमति नहीं दे रही है। वहीं चुनावी क्षेत्रों में कोरोना का कोई प्रभाव या बंदिश देखने को नहीं मिल रही है। रैलियां व सभाएँ जोर शोर से चल रही
बागियों पर BJP का एक्शन, व्‍यासदेव प्रसाद-मनोज सिंह पार्टी से बाहर

बागियों पर BJP का एक्शन, व्‍यासदेव प्रसाद-मनोज सिंह पार्टी से बाहर

भाजपा से निष्कासित होने वाले नामों में और 6 पूर्व व वर्तमान विधायक और विधान पार्षदों के नाम शामिल हो गए हैं। भाजपा ने पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल होने को लेकर छह पूर्व विधायकों और विधान पार्षदों को पार्टी से निलंबित कर दिया है। पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल के आदेश पर इन्हें निष्कासित किया गया है। इसके साथ ही दैनिक भास्कर ने जो 9 नाम आपको बताए थे उनको भी जिला स्तर से निष्कासन की चिट्ठी मिल गई है। यह दूसरे चरण की सीटों पर बागियों को लेकर हुई कार्रवाई है और इस तरह से भाजपा में धीरे-धीरे बागियों की लिस्ट लंबी होती जा रही है। इससे पहले भी प्रथम चरण की सीटों पर भाजपा ने 9 प्रमुख पार्टी नेताओं को बाहर का रास्ता दिखा दिया था और अब बागियों की कुल सूची बीजेपी में 27 हो गई है। आने वाले दिनों में यह सूची और लंबी होगी क्योंकि पार्टी तीसरे चरण की सीटों पर भी नजर गड़ाए हुए हैं और हर उस
सीवान: जानें किन उम्‍मीदवारों का नामांकन हुआ रद्द, किसके नाम पर लगी मुहर

सीवान: जानें किन उम्‍मीदवारों का नामांकन हुआ रद्द, किसके नाम पर लगी मुहर

विधानसभा चुनाव को लेकर हुए नामांकन के बाद शनिवार को स्क्रूटनी की प्रक्रिया पूरा होने के बाद सीवान में पांच विधानसभा क्षेत्रों के 19 उम्मीदवरों का नामांकन रद्द कर दिया गया है। इन सभी लोगों के नामांकन पत्रों के जांच के दौरान तकनिकी त्रुटियां निर्वाची पदाधिकारियों ने पाई थी। वहीं दरौंली विधानसभा क्षेत्र के सभी चारों उम्मीदवारों का नामांकन पत्र स्वीकृत कर लिया गया है। नामांकन पत्रों के जांच के बाद सीवान विधानसभा क्षेत्र, दरौंदा, दरौली, रघुनाथपुर और जीरादेई में करीब 50 उम्मीदवार मैदान में रह गए है। इन्हें सोमवार तक नाम वापसी का समय दिया गया है। 03 बजे के बाद नामवापसी नहीं हो पाएगा। मालूम हो कि दरौंदा विधानसभा क्षेत्र से 13 उम्मीदवरों ने पर्चा दाखिल किया था। इसमें से 12 उम्मीदवरों का स्वीकृत किया गया है और एक अस्वीकृत हुआ है। इसमें भाजपा उम्मीदवार कर्णजीत सिंह, भाकपा माले उम्मीदवार अमरनाथ यादव,
error: Content is protected !!