townaajtak@gmail.com

Tag: मनोज सिंह

बागियों पर BJP का एक्शन, व्‍यासदेव प्रसाद-मनोज सिंह पार्टी से बाहर

बागियों पर BJP का एक्शन, व्‍यासदेव प्रसाद-मनोज सिंह पार्टी से बाहर

भाजपा से निष्कासित होने वाले नामों में और 6 पूर्व व वर्तमान विधायक और विधान पार्षदों के नाम शामिल हो गए हैं। भाजपा ने पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल होने को लेकर छह पूर्व विधायकों और विधान पार्षदों को पार्टी से निलंबित कर दिया है। पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल के आदेश पर इन्हें निष्कासित किया गया है। इसके साथ ही दैनिक भास्कर ने जो 9 नाम आपको बताए थे उनको भी जिला स्तर से निष्कासन की चिट्ठी मिल गई है। यह दूसरे चरण की सीटों पर बागियों को लेकर हुई कार्रवाई है और इस तरह से भाजपा में धीरे-धीरे बागियों की लिस्ट लंबी होती जा रही है। इससे पहले भी प्रथम चरण की सीटों पर भाजपा ने 9 प्रमुख पार्टी नेताओं को बाहर का रास्ता दिखा दिया था और अब बागियों की कुल सूची बीजेपी में 27 हो गई है। आने वाले दिनों में यह सूची और लंबी होगी क्योंकि पार्टी तीसरे चरण की सीटों पर भी नजर गड़ाए हुए हैं और हर उस
भ्रष्टाचार और लापरवाही के जलजमाव में डूबा सीवान का नगर परिषद!

भ्रष्टाचार और लापरवाही के जलजमाव में डूबा सीवान का नगर परिषद!

सीवान शहर के नई बस्ती, महादेवा का वार्ड संख्या 17 यहां की एक खबर इन दिनों चर्चा में है। दरअसल, इस इलाके के कुछ लोगों ने जुगाड़ तकनीक से नाव बनाई है तो कुछ लोग बाहर से नाव खरीद कर ला रहे है। देखते ही देखते मोहल्ले के कई घरों में खुद का नाव हो गया है। अब आपके मन में सवाल होगा कि लोग ये नाव क्यों रख रहे हैं। तो इसका जवाब है— जलजमाव। जी हां, वही जलजमाव जिसकी आदत सीवान शहर को हो गई है। ये वही जलजमाव है जो हर साल मामूली बारिश में भी एक बड़ी समस्या बन जाती है। आप सीवान शहर के किसी भी हिस्से में चले जाइए, हर जगह कमोबेश जलजमाव की हालत बनी हुई रहती है। शहर में विदुृरती हाता समेत कई मुहल्ले तो ऐसे भी हैं जहां सड़क नहीं है। लोगों की स्थिति ये है कि वो जलजमाव में खुद को किसी टापू में फंसे होने जैसा महसूस कर रहे हैं। अब लोगों को भी इसकी आदत सी हो गई है। लोगों को भी ये पता चल चुका है कि
हैप्पी यादव का मनोज सिंह पर हमला, बोले-शहाबुद्दीन के समय मुंशी थे, कैसे बने अरबपति?

हैप्पी यादव का मनोज सिंह पर हमला, बोले-शहाबुद्दीन के समय मुंशी थे, कैसे बने अरबपति?

''शहाबुद्दीन के समय आप एक साधारण मुंशी थे। कौन से हिसाब से अरबों रुपये की संपत्ति बना लिए।'' ये सवाल सीवान के पूर्व सांसद ओमप्रकाश यादव के बेटे हैप्पी यादव ने बीजेपी नेता मनोज सिंह से पूछा है। यही नहीं, हैप्पी यादव ने मनोज सिंह पर पलटवार करते हुए उन्हें अपराधी करार दिया है। इसके साथ ही हैप्पी यादव ने अपने पिता यानी पूर्व सांसद ओमप्रकाश यादव के 10 साल के कार्यकाल का हिसाब भी दिया है।  हैप्पी यादव के पूरे बयान की बात करेंगे, इससे पहले इस मामले को समझ लीजिए। क्या है पूरा मामला? दरअसल, मनोज सिंह सीवान के रघुनाथपुर विधानसभा से बीजेपी से चुनाव लड़ने की दावेदारी पेश कर रहे हैं। वहीं, हैप्पी यादव भी बीजेपी के टिकट से इस सीट पर दावा ठोक रहे हैं। आपको यहां ये भी बता दें कि हैप्पी यादव पहली बार किसी विधानसभा सीट के लिए दावेदारी पेश कर रहे हैं। वहीं, मनोज सिंह 2014 में लोकसभा चुनाव और 2015 में
सीवान : सामने आई BJP की फूट, मंच से मनोज सिंह को सांसद ने दिया जवाब!

सीवान : सामने आई BJP की फूट, मंच से मनोज सिंह को सांसद ने दिया जवाब!

सीवान लोकसभा चुनाव 12 मई को होने वाला है लेकिन उससे पहले सीवान एनडीए की फूट बार—बार सामने आ रही है। दरअसल, बीते दिनों सीवान के सांसद ओमप्रकाश यादव ने फेसबुक पर एक पोस्ट शेयर कर सीवान के लोगों से जहर का घूंट पीने की अपील की। हालांकि कुछ मिनटों में ही उन्होंने फेसबुक से यह पोस्ट डिलीट कर लिया। लेकिन शनिवार को एक बार फिर सीवान बीजेपी सांसद अपनी ही पार्टी के नेताओं पर हमलावर नजर आए। सांसद ने सीवान के बीजेपी जिलाध्यक्ष मनोज सिंह और एमएलसी टुन्ना पांडे को अपनी बातों से जवाब दिया।  दिलचस्प बात यह है कि इस दौरान मनोज सिंह-रामायण मांझी मंच पर ही मौजूद थे। क्या है मामला दरअसल, शनिवार को सीवान लोकसभा चुनाव के लिए जेडीयू प्रत्याशी कविता सिंह का नामांकन था। इस नामांकन के बाद गांधी मैदान में सीवान एनडीए का जनता के नाम संबोधन था। इस संबोधन के दौरान मंच पर बीजेपी, जेडीयू और लोजपा के कई बड़े नेत
सीवान : मनोज सिंह ने वो किया है जिसकी हिम्मत अब तक किसी ने नहीं दिखाई

सीवान : मनोज सिंह ने वो किया है जिसकी हिम्मत अब तक किसी ने नहीं दिखाई

सीवान में डॉक्टरों की लापरवाही और मनमर्जी के किस्से हर दूसरे दिन सुनने को मिलते हैं। अधिकतर डॉक्टर अपने हिसाब से मरीजों से पैसे वसूली करते हैं और फिर उस मरीज को प्रताड़ित भी करते हैं। ऐसा ही एक मामला मंगलवार को भी हुआ। लेकिन इस बार बीजेपी के जिलाध्यक्ष मनोज सिंह ने जो किया है वो अब तक ​सीवान में नहीं देखने को मिला था। मनोज सिंह के इस शानदार काम की बात करने से पहले यह जानना जरूरी है कि पूरा मामला क्या है। यह है मामला जो जानकारी मिल रही है उसके मुताबिक मंगलवार को सीवान में डॉक्टर श्वेत रानी के क्लिनिक में एक गर्भवती महिला एडमिट हुई। महिला की डिलिवरी के नाम पर 20000 रूपये लिए गए और उसके बाद बिना डिलिवरी के गाली गलौज देकर भगा दिया गया। मरीज के परिजनों के मुताबिक सदर अस्पताल में गर्भवती महिला की नार्मल डिलिवरी हुई। https://www.youtube.com/watch?v=TkreaLzOujk&feature=youtu.be म
बीजेपी में बवाल : मनोज सिंह बोले- मैं मर जाउं, किसी नेता को फर्क नहीं पड़ता

बीजेपी में बवाल : मनोज सिंह बोले- मैं मर जाउं, किसी नेता को फर्क नहीं पड़ता

सीवान के बीजेपी सांसद ओमप्रकाश यादव को लेकर पार्टी के भीतर बवाल थमने का नाम नहीं ले रहा है। सांसद ओमप्रकाश यादव के खिलाफ पिछले दिनों पार्टी के ही एमएलसी रहे टुन्ना जी पांडे ने मोर्चा खोला था तो अब बीजेपी के ही जिलाध्यक्ष मनोज सिंह भी खुलकर मैदान में आ गए हैं। मनोज सिंह ने सांसद के विकास कार्य पर सवाल उठाए हैं तो टुन्ना जी पांडे और ओमप्रकाश यादव के बीच की तू—तू, मैं—मैं पर भी हमला बोला है। उन्होंने यहां तक कह दिया है कि मनोज सिंह मर जाए तब भी किसी नेता को कोई फर्क नहीं पड़ने वाला है। दरअसल, बीजेपी के कद्दावर नेता मनोज सिंह ने अपने कमेंट बॉक्स में यह बात लिखी। उन्होंने लिखा कि मनोज सिंह हार जाए या केस में फंस जाए या फिर मर जय। इससे किसी नेता को कोई फर्क नही पड़ने वाला है। उन्होंने सीवान के उन विधानसभा सीट का भी जिक्र किया जिसमें 2015 चुनाव में बीजेपी को हार मिली थी। मनोज सिंह ने लिखा क
‘सीवान में शहाबुद्दीन नहीं, विकास की हो सियासत’

‘सीवान में शहाबुद्दीन नहीं, विकास की हो सियासत’

सीवान का जिक्र हो और पूर्व सांसद मोहम्मद शहाबुद्दीन की चर्चा न हो, ये शायद संभव नहीं है। लेकिन बीजेपी के सांसद ओमप्रकाश यादव और उनके बेटे हैप्पी समय — समय पर शहाबुद्दीन के नाम का जिक्र करते रहते हैं। हालांकि भाजपा के ही एक और नेता और जिलाध्यक्ष मनोज सिंह का कहना है कि शहाबुद्दीन के नाम पर अब सियासत नहीं होनी चाहिए। बीते दिनों टाउन आजतक को दिए इंटरव्यू में उन्होंने ये बात कही। मनोज सिंह ने ऐसे समय में यह बात कही है जब​ सीवान सांसद और उनके बेटे लगातार शहाबुद्दीन के कार्यकाल का जिक्र कर रहे हैं। सांसद ने बीते दिनों कथित रुप से शहाबुद्दीन समर्थक द्वारा जान से मारने की धमकी देने का आरोप लगाया। तो वहीं शहाबुद्दीन के कार्यकाल में सीवान को आईएसआईएस का अड्डा भी बताया था। सबसे पहले जानिए मनोज सिंह ने क्या कहा मनोज सिंह ने कहा कि हम 10 साल से शहाबुद्दीन के नाम पर सियासत कर रहे हैं। लेकिन अब व

को—आॅपरेटिव चुनाव: वो 3 कारण, जिससे मनोज ​सिंह को मिली हार

को—आॅपरेटिव चुनाव में राजद समर्थित रामायण चौधरी ने भाजपा के मनोज सिंह को हरा दिया है। मनोज सिंह की इस हार का सोशल मीडिया से लेकर हर चौक—चौराहों पर मंथन हो रहा है। बहरहाल, आज हम आपको वो 3 कारण बताने जा रहे हैं जिस वजह से मनोज सिंह को हार मिली है। प्रिंस उपाध्याय फैक्टर इस चुनाव में सबसे बड़ी सनसनी बनकर कोई उभरा है तो वो प्रिंस हैं। दरअसल, चुनाव से ठीक एक दिन पहले मनोज सिंह पर गाली—गलौच का आरोप लगाते हुए आॅडियो जारी करने वाले प्रिंस ने ब्राहम्ण जाति के लोगों को एक ही झटके में अपने पक्ष में कर लिया। मनोज सिंह पर इस आॅडियो में ब्राहम्ण जाति को गाली देने का आरोप है। भाजपा की अंदरूनी लड़ाई मनोज सिंह की चुनावी हार की एक और वजह भाजपा की अंदरुनी लड़ाई बताई जा रही है। सोशल मीडिया पर इस बात की चर्चा है कि सीवान भाजपा के कई बड़े नेता ये नहीं चाहते थे कि मनोज सिंह का कद बढ़े। उन्हें इस बात

हिना साहिब: को—आॅपरेटिव चुनाव की छुपा रुस्तम

वैसे तो सीवान को—आॅपरेटिव चुनाव के नतीजे आ चुके हैं। अध्यक्ष पद के लिए राजद समर्थित रामायण चौधरी ने मनोज सिंह को हराकर जीत हासिल की है। वैसे तो इस चुनाव में कई खिलाड़ियों की चर्चा हुई। उनमें मनोज सिंह और रामायण चौधरी के अलावा प्रिंस उपाध्याय ने खूब सुर्खियां बटोरी। यही नहीं, सांसद ओमप्रकाश यादव के बेटे हैप्पी ने भी भाजपा उम्मीदवार मनोज सिंह के लिए प्रचार कर चर्चाएं बटोरीं। लेकिन इन सब के बीच एक ऐसा भी चेहरा रहा, जिसे अब तक लोग उपेक्षित मान रहे थे। यानी ध्यान नहीं दिया जा रहा था, लेकिन जानकारी के मुताबिक इस चुनाव में राजद की तमाम रणनीतियों के वो असल सूत्रधार थीं। जी हां, हम बात कर रहे हैं पूर्व सांसद शहाबुद्दीन की पत्नी हिना साहिब के बारे में। राजनीति के जानकारों का कहना है कि रामायण चौधरी को जीत मिली है। इसमें सबसे बड़ा हाथ हिना साहिब के मार्गदर्शन का है। उन्होंने हर मोर्चे पर बेहद
को—आॅपरेटिव चुनाव : इस शख्स ने बदली सीवान में सियासी तस्वीर!

को—आॅपरेटिव चुनाव : इस शख्स ने बदली सीवान में सियासी तस्वीर!

कहते हैं सियासत में जितने आपके दोस्त होते हैं उससे ज्यादा दुश्मन होते हैं। वैसे ही दुश्मन सही समय पर विरोधियों के साथ मिलकर सियासी तस्वीर बदल देते हैं। कुछ ऐसा ही सीवान के भाजपा जिलाध्यक्ष मनोज सिंह के साथ हुआ। उन्हें को—आॅपरेटिव चुनाव में राजद के रामायण चौधरी ने करारी शिकस्त दी है। भाजपा सांसद के समर्थित मनोज सिंह के हार के असली वजह प्रिंस उपाध्याय को माना जा रहा है। जी हां, वही प्रिंस उपाध्याय जिन्होंने वोटिंग से ठीक एक दिन पहले कथित रुप से मनोज सिंह के गाली—गलौच की आॅडियो जारी कर तूफान मचा दिया। इसके अलावा उन्होंने मनोज सिंह पर जान से मारने की धमकी देने का आरोप लगाया। उन्होंने अपने फेसबुक पोस्ट पर लिखा था — मैं प्रिंस उपाध्याय को-ओपरेटिव के चुनाव में श्री रामायण चौधरी जी के पक्ष में वोट मांग रहा था तो आज शाम को भाजपा जिलाध्यक्ष माननीय श्री मनोज सिंह जी का कॉल आया मेरे मोबाइल पर औ
error: Content is protected !!