townaajtak@gmail.com

सोशल—साइंस

CCTV से सीवान की नाकेबंदी, सोशल मीडिया के फर्जी पोस्ट के लिए ये इंतजाम

CCTV से सीवान की नाकेबंदी, सोशल मीडिया के फर्जी पोस्ट के लिए ये इंतजाम

सीवान जिले में जैसे जैसे विधानसभा चुनाव नजदीक आ रहा है जिला प्रशासन अपनी तैयारी पूरी करता जा रहा है। बिहार और यूपी के बॉर्डर पर स्थित सिवान के गुठनी प्रखंड स्थित श्रीकलपुर चेकपोस्ट पर निगरानी बढ़ा दी गई है। चुनाव को निष्पक्ष माहौल में संपन्न कराने के लिए जिला प्रशासन ने बॉर्डर से आने जाने वालों की हर गतिविधि की निगरानी करने के लिए सीसी कैमरे लगवाने शुरू कर दिए हैं ताकि हर संदिग्ध वाहन की जांच के दौरान कैमरे से वरीय अधिकारी भी पूरी तत्परता से नजर रखें। कैमरा लगने से अब आए दिनों हो रही आपराधिक घटनाओं में कमी आने की संभावना भी है। इसके अलावा सोशल मीडिया पर हो रहे दुष्प्रचार का जवाब चुनाव आयोग व जिला प्रशासन की वेबसाइट पर जारी फैक्ट चेक के लिंक से दिया जाएगा। इससे कोई भी मतदाता किसी भी खबर या पोस्ट की सच्चाई चुनाव आयोग अथवा जिला प्रशासन के फैक्ट चेक के लिंक पर जाकर पता कर सकेगा। भ्रामक
क्या बिहार विधानसभा चुनाव लड़ेंगे DGP गुप्तेश्वर पांडे?

क्या बिहार विधानसभा चुनाव लड़ेंगे DGP गुप्तेश्वर पांडे?

बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे अकसर चर्चा में रहते हैं। इन दिनों सुशांत केस की वजह से गुप्तेश्वर पांडे की चर्चा ज्यादा हो रही है। हालांकि, बीते दिनों उनके बारे में एक अफवाह उड़ गई। अफवाह ये थी कि गुप्तेश्वर पांडे डीजीपी पद से इस्तीफा देकर विधानसभा चुनाव लड़ेंगे। हालांकि, बिहार के डीजीपी ने इस मामले पर सफाई भी दे दी है। DGP गुप्तेश्वर पांडेय ने अपने ट्वीटर अकाउंट से इस मामले को लेकर अपनी सफाई दी। उन्होंने इस खबर का खंड़न करते हुए इसे गलत व भ्रामक बताया और साथ ही उन्होंने एक न्यूज पोर्टल पर इसकी पुष्टि कर सनसनी फैलाने के मामले में नाराजगी भी जताई। उन्होंने लिखा— अभी बिहार के एक पोर्टल न्यूज़ ने मेरे नौकरी से इस्तीफ़ा देने के बारे में एक झूठी खबर चला कर सनसनी फैला दी है.इसको किस स्तर की पत्रकारिता कहेंगे आप ? बता दें कि बिहार पुलिस के DGP गुप्तेश्वर पांडेय तब से काफी अधिक चर्चे मे
इस बार ‘राहुल मोदी’ ने भी पास की UPSC परीक्षा, रैंकिंग है 420

इस बार ‘राहुल मोदी’ ने भी पास की UPSC परीक्षा, रैंकिंग है 420

संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) ने मंगलवार को 2019 की सिविल सेवा परीक्षा का फाइनल रिजल्ट जारी कर दिया। साल 2019 सितंबर में आयोजित हुई लिखित परीक्षा और इस साल फरवरी-अगस्त में हुए इंटरव्यू के आधार पर यूपीएससी ने मेरिट लिस्ट जारी की। इस बार टॉपर से ज्यादा चर्चा 420वीं रैंक लाने वाले की हो रही है। इस बार के रिजल्ट में 420वीं रैंक लाने वाले उम्मीदवार के नाम ने सबको हंसा दिया। दरअसल इस साल के रिजल्ट में 420वीं रैंक लाने वाले उम्मीदवार का नाम 'राहुल मोदी' है। राहुल मोदी के रोल नंबर 6312980 हैं। बस फिर क्या, लिस्ट सामने आते ही लोगों ने मजे लेना शुरू कर दिया। सोशल मीडिया पर लोग इसे पीएम मोदी और राहुल गांधी से जोड़कर देख रहे हैं। इस पर लोग मीम और जोक्स बना रहे हैं। कई लोगों ने मौज लेते हुए फनी कॉमेंट्स भी किए। एक शख्स ने लिखा, 'चलो अच्छा है, कहीं तो मोदी और राहुल एक साथ आए।' पहले स्थान पर प्रदीप
टिकटॉक पर आम से खास ही नहीं, भारत सरकार भी मौजूद थी..

टिकटॉक पर आम से खास ही नहीं, भारत सरकार भी मौजूद थी..

इस लेख को सुधीर तिवारी ने लिखा है.. भारत सरकार ने एक बड़ा कदम उठाते हुए देश में 59 ऐप को बैन कर दिया है। इस ऐप्स में टिकटॉक भी शामिल है। चीन से तनाव के बीच सरकार के इस फैसले को मास्टर स्ट्रोक बताया जा रहा है। लेकिन क्या आपको पता है कि टिकटॉक पर सिर्फ आम या खास लोग ही नहीं थे, इस चाइनीज ऐप पर सरकार भी मौजूद थी। जी हां, सरकारी प्रेस ब्यूरो पीआईबी के अलावा माय गर्वेेमेंट के नाम से आधिकारिक टिकटॉक अकाउंट था। इस टिकटॉक अकाउंट पर लगातार वीडियो शेयर किए जा रहे थे। हालांकि, माय गवर्मेंट अकाउंट को अब सरकार ने टिकटॉक से हटा दिया है लेकिन खबर लिखे जाने तक पीआईबी का अकाउंट टिकटॉक पर था। क्या कहा सरकार ने सरकार की ओर से जारी आदेश के अनुसार, सरकार उन 59 मोबाइल ऐप पर बैन लगा दिया जो भारत की संप्रभुता और अखंडता, भारत की रक्षा, राज्य की सुरक्षा और सार्वजनिक व्यवस्था के लिए पूर्वाग्रहपूर्ण थे।
कुलदीप राघव की ‘इश्‍क मुबारक’ नए अवतार में, इस गाने में दिखेगी झलक

कुलदीप राघव की ‘इश्‍क मुबारक’ नए अवतार में, इस गाने में दिखेगी झलक

इश्‍क की जुबां को पन्‍नों पर उतारने में माहिर, चर्चित लेखक और पत्रकार कुलदीप राघव की किताब ‘इश्‍क मुबारक’ नए अवतार में नजर आएगी। जी हां, सिंगर आलोक सिंह के गाने में आपको ये किताब नजर आएगी। इस गाने के एक सीन में आलोक सिंह जो किताब पढ़ते नजर आ रहे हैं, वो ‘इश्‍क मुबारक’ है। आपको बता दें कि यह किताब 01 जनवरी 2020 को रिलीज हुई थी। ये किताब रिलीज के साथ ही अमेजन पर सर्वाधिक बिकने वाली हिंदी किताब बन गई। अमेजन पर कई श्रेणियों में इश्‍क मुबारक शीर्ष स्‍थान पर पहुंच गई। यही नहीं, सोशल मीडिया पर भी इस किताब को जमकर सराहा जा रहा है। इस किताब को रेडग्रैब बुक्‍स, इलाहाबाद ने प्रकाशित किया है। वहीं अगर सिंगर आलोक सिंह के बारे में बात करें तो उत्‍तर प्रदेश के कुशीनगर के पास एक छोटे से कस्‍बे रामकोला के रहने वाले हैं। आलोक सिंगर आलोक स‍िंह हिंदी और भोजपुरी फिल्मों में अपनी आवाज का जादू बिखेर चुके हैं।
करोड़ों फॉलोअर, फिर भी सोशल मीडिया क्यों छोड़ना चाहते हैं PM मोदी?

करोड़ों फॉलोअर, फिर भी सोशल मीडिया क्यों छोड़ना चाहते हैं PM मोदी?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म छोड़ने पर विचार कर रहे हैं। उन्होंने एक ट्वीट में लिखा, "इस रविवार, फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर सोशल मीडिया अकाउंट्स को छोड़ने की सोच रहा हूं। आप सभी को पोस्ट करता रहूंगा।" उन्होंने अपने व्यक्तिगत ट्विटर हैंडल से इसकी जानकारी दी है। प्रधानमंत्री मोदी के इस ट्वीट से लोगों में हैरानी है। उनके ट्विटर हैंडल पर लोग पोस्ट कर उनसे ऐसा न करने की गुजारिश कर रहे हैं। कुछ ट्वीट में यह भी लिखा गया है कि उनकी वजह से वे ट्विटर से जुड़े, इसलिए वे सोशल मीडिया छोड़ने का फैसला न लें। ट्विटर पर प्रधानमंत्री मोदी के 5 करोड़ 33 लाख और फेसबुक पर 4 करोड़ 45 लाख फॉलोवर हैं। इंस्टाग्राम पर उनके फॉलोवरों की संख्या 3 करोड़ 52 लाख है।
पत्रकार कुलदीप की नई किताब ‘इश्‍क मुबारक’ ने तोड़े सारे रिकॉर्ड

पत्रकार कुलदीप की नई किताब ‘इश्‍क मुबारक’ ने तोड़े सारे रिकॉर्ड

इश्‍क की जुबां को पन्‍नों पर उतारने में माहिर, 'आईलवयू' जैसी शानदार किताब के लेखक के रूप में चर्चित कुलदीप राघव की नई किताब 'इश्‍क मुबारक' नए साल के पहले दिन यानि 01 जनवरी 2020 को रिलीज हुई थी। ये किताब रिलीज के साथ ही अमेजन पर सर्वाधिक बिकने वाली हिंदी किताब बन गई। अमेजन पर कई श्रेणियों में इश्‍क मुबारक शीर्ष स्‍थान पर पहुंच गई। यही नहीं, सोशल मीडिया पर भी इस किताब को जमकर सराहा जा रहा है। इस किताब को रेडग्रैब बुक्‍स, इलाहाबाद ने प्रकाशित किया है। जानिए क्या है कहानी किताब के बारे में कुलदीप बताते हैं कि इश्‍क़ मुबारक, मेरठ के करीब एक छोटे से गाँव के रहने वाले और गरीबी में पले-बढ़े मीर की ज़िन्दगी के दास्तान है। बचपन में पिता का निधन और फ‍िर जवानी में माँ का साया उठ जाने के बाद, तमाम पारिवारिक, सामाजिक और आर्थिक समस्‍याओं को पार कर मीर रॉकस्‍टार बनने के सपने को पूरा करता है। इस सफ़
लालू यादव की इस बात के मुरीद हुए चेतन भगत

लालू यादव की इस बात के मुरीद हुए चेतन भगत

प्रमोशन में आरक्षण पर सर्वोच्च न्यायालय की टिप्पणी के बाद राष्ट्रीय जनता दल (राजद) प्रमुख लालू प्रसाद ने केंद्र की भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सरकार पर निशाना साधा और लालू ने आरक्षण खत्म करने की बात करने वालों को नसीहत देते हुए कहा कि आरक्षण खत्म करने की बात करने वाले जातियां खत्म करने की बात क्यों नहीं करते? लालू के इस विचार की अंतर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त लेखक व मोटिवेशनल स्पीकर चेतन भगत ने तारीफ की है। चर्चित चारा घोटाले के कई मामलों में सजा काट रहे लालू प्रसाद के ट्विटर हैंडल से सोमवार को लिखा गया, "आरक्षण खत्म करने की बात करने वाले लोग जातियां खत्म करने की बात क्यों नहीं करते? इसलिए कि जातियां उन्हें श्रेष्ठ बनाती हैं, ऊंचा स्थान देकर बेवजह उन्हें स्वयं पर अहंकार करने का अवसर देती है। हम कहते हैं कि पहले बीमारी खत्म करो, लेकिन वो कहते हैं कि नहीं, पहले इलाज खत्म करो।" लालू क
सीएए—NRC विरोध के लिए कांग्रेस के शुक्रगुजार हैं प्रशांत किशोर

सीएए—NRC विरोध के लिए कांग्रेस के शुक्रगुजार हैं प्रशांत किशोर

जनता दल(यूनाइटेड) के उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर ने रविवार को नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) और राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) के खिलाफ खड़े होने के लिए कांग्रेस पार्टी का शुक्रिया अदा किया और कहा कि यह नया कानून बिहार में लागू नहीं होगा। वर्ष 2014 के आम चुनाव में गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की जीत और पार्टी में उनका नाम प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार के तौर पर प्रोजेक्ट करने के पीछे राजनीतिक रणनीतिकार प्रशांत किशोर का ही दिमाग माना जाता है। पिछले साल दिसंबर माह में प्रशांत ने कांग्रेस पार्टी पर आरोप लगाया था कि सीएए और एनआरसी का विरोध पार्टी उस प्रकार से नहीं कर रही है, जिस प्रकार से उसे करना चाहिए। उन्होंने कहा था कि सड़कों में हो रहे विरोध प्रदर्शनों से कांग्रेस का शीर्ष नेतृत्व नदारद है। अब कांग्रेस पार्टी की बढ़ी सक्रियता के बा
लालू यादव के नारे ‘दो हजार बीस, हटाओ नीतीश’ की हो रही चर्चा

लालू यादव के नारे ‘दो हजार बीस, हटाओ नीतीश’ की हो रही चर्चा

बिहार में इस साल के आखिर में होने जा रहे विधानसभा चुनाव को लेकर अभी से सियासी सरगर्मी बढ़ गई है। राजद और भाजपा के बीच नारे की जंग भी छिड़ गई है। राजद मुखिया लालू यादव ने शनिवार को ट्वीट कर 'दो हजार बीस, हटाओ नीतीश' का नारा दिया तो अब भाजपा के राष्ट्रीय मीडिया सह प्रभारी और बिहार के विधान परिषद सदस्य संजय मयूख ने उसी तर्ज पर नारे का जवाब नारे से देते हुए कहा है- 'दो हजार बीस, फिर से नीतीश।' संजय मयूख वह नेता हैं, जिन्हें अध्यक्ष अमित शाह ने 2017 में बिहार से दिल्ली बुलाकर अपनी राष्ट्रीय टीम में बतौर राष्ट्रीय मीडिया सह प्रभारी के तौर पर शामिल किया था। संजय मयूख की गिनती बिहार भाजपा के प्रभावशाली नेताओं में होती है। नीतीश कुमार को लेकर दिए इस नारे से माना जा रहा है कि उन्होंने राजद मुखिया लालू यादव को भाजपा की तरफ से जवाब दिया। चारा घोटाले में सजा काट रहे लालू यादव ने शनिवार को ही ट्व
error: Content is protected !!