townaajtak@gmail.com

Month: January 2019

देश का अंतरिम बजट कुछ देर में होगा पेश, वित्त मंत्री जेटली नहीं दिखेंगे

देश का अंतरिम बजट कुछ देर में होगा पेश, वित्त मंत्री जेटली नहीं दिखेंगे

लोकसभा चुनाव से पहले मोदी सरकार कुछ देर में लोकसभा में देश का अंतरिम बजट पेश करेगी। अमेरिका में इलाज करा रहे वित्‍त मंत्री अरुण जेटली की गैर-मौजूदगी में यह बजट पीयूष गोयल पेश करेंगे। 31 जनवरी से शुरू हुआ संसद का बजट सत्र 13 फरवरी तक चलेगा और यह वर्तमान सरकार के तहत संसद का अंतिम सत्र होगा। इस बार है अंतरिम बजट केन्द्र में नरेन्द्र मोदी सरकार अपना पांच बजट पेश करने के बाद अब अंतरिम बजट पेश करने जा रही है। यह बजट अन्‍य सालों से बिल्‍कुल उलट होगा। अंतरिम बजट तब पेश होता है जब देश में लोकसभा चुनाव हो या फिर सरकार के कार्यकाल खत्‍म होने में कुछ महीनों का वक्‍त बचा हो. हर साल सरकार अपने कार्यकाल का वार्षिक लेखा-जोखा संसद में पेश करती है. वहीं अंतरिम बजट में आंशिक समय के लिए बजट पेश की जाती है. इसमें कुछ महीनों या फिर कुछ दिनों के राजस्व का लेखा जोखा तय होता है. इसे मिनी बजट भी कहा जाता
नौकरी पर आफत बन कर आई नोटबंदी, 45 साल में सबसे ज्यादा बेरोजगारी

नौकरी पर आफत बन कर आई नोटबंदी, 45 साल में सबसे ज्यादा बेरोजगारी

वैसे तो नोटबंदी को मोदी सरकार ब्‍लैकमनी के खिलाफ बड़ा फैसला बताती रही है लेकिन इस फैसले की वजह से बेरोजगारी में जबरदस्‍त बढ़ोतरी हुई है. नेशनल सैंपल सर्वे ऑफिस (NSSO) के ताजा आंकड़ों के मुताबिक देश में बेरोजगारी की दर 6.1 फीसदी है. यह आंकड़ा 45 सालों के उच्‍चतम स्‍तर पर है. इससे पहले 1972-73 में देश में बेरोजगारी की दर 6 फीसदी से ज्‍यादा थी. अहम बात ये है कि आंकड़े नोटबंदी के बाद के हैं.रिपोर्ट में कहा गया है कि ग्रामीण इलाकों के मुकाबले शहरी क्षेत्र में सबसे ज्‍यादा बेरोजगारी है. आंकड़ों के मुताबिक शहरी क्षेत्र में बेरोजगारी की दर 7.8 फीसदी है जबकि ग्रामीण इलाकों में यह आंकड़ा 5.3 फीसदी है. वहीं, 2017-18 में युवाओं की बेरोजगारी दर में रिकॉर्ड बढ़ोतरी हुई है. इस दौरान ग्रामीण क्षेत्र की शिक्षित महिलाओं की बेरोजगारी दर बढ़कर 17.3 फीसदी रही है. इससे पहले 2004-05 से 2011-12 के ब
सीवान में कब थमेगा डॉक्टर की लापरवाही से मौत का सिलसिला?

सीवान में कब थमेगा डॉक्टर की लापरवाही से मौत का सिलसिला?

सीवान में डॉक्टरों की लापरवाही का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। ताजा मामला जिले के गोरियाकोठी इलाके का है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक सीवान के चर्चित कान रोग विशेषज्ञ के क्लिनिक में आॅपरेशन के दौरान एक युवक की मौत हो गई। मृतक का गांव गोरियाकोठी का भीठी गांव है। मृतक के परिजनों का आरोप है कि मरीज को बेहोशी का इंजेक्शन लगाया गया, इसके बाद मौत हो गई। इसके बाद परिजनों ने जमकर हंगामा किया। यह पहली बार नहीं है जब डॉक्टरों की लापरवाही का मामला सामने आया है। इससे पहले सीवान में डॉक्टर की लापरवाही का एक और मामला सामने आया था। तब बीजेपी के जिलाध्यक्ष मनोज सिंह मरीज के लिए सक्रिय हुए थे। यह था मामला बीते दिनों सीवान में डॉक्टर श्वेत रानी के क्लिनिक में एक गर्भवती महिला एडमिट हुई थी। महिला की डिलिवरी के नाम पर 20000 रूपये लिए गए और उसके बाद बिना डिलिवरी के गाली गलौज देकर भगा दिया गया था।
मिलिए बिहार के नए डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय से…

मिलिए बिहार के नए डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय से…

बिहार सरकार ने राज्य के नए पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) के नाम की घोषणा कर दी है। सरकार के नोटिफिकेशन के मुताबिक गुप्तेश्वर पांडेय बिहार के नए डीजीपी बनाए गए हैैं। दरअसल, डीजीपी केएस द्विवेदी गुरुवार को रिटायर हो गए। उनकी रिटायरमेंट के बाद अब कार्यभार गुप्तेश्वर पांडेय संभालेंगे। पांडेय 28 फरवरी 2021 को अवकाशग्रहण करेंगे। लेकिन सवाल है कि नीतीश कुमार ने गुप्तेश्वर पांडेय का इस पद के लिए क्यों चयन किया है तो आइए हम आपको इस रिपोर्ट में बताते हैं। लेकिन उससे पहले जानिए कि कौन हैं गुप्तेश्वर पांडेय। गुप्तेश्वर पांडेय कौन हैं गुप्तेश्वर पांडेय 1987 बैच के आईपीएस अधिकारी हैं और मूल रूप से बिहार के ही बक्सर के रहने वाले हैं। वह फिलहाल बिहार पुलिस में डीजी ट्रेनिंग के पद पर कार्यरत हैं। हाल ही में नीतीश कुमार ने उन्हेंअपर पुलिस महानिदेशक से महानिदेशक के पद पर प्रोन्नत किया था। गुप्तेश्वर पांडेय पू
बजट से पहले आम जनता को राहत, सस्ता हुआ गैस सिलेंडर

बजट से पहले आम जनता को राहत, सस्ता हुआ गैस सिलेंडर

लोकसभा चुनाव से पहले कल अंतरिम बजट को पेश होने वाला है। बजट से पहले महंगाई के मोर्चे पर सरकार की ओर से आम लोगों को राहत दी गई है। दरअसल, घरेलू रसोई गैस के सब्सिडी वाले सिलेंडर की कीमत 1.46 रुपये कम हो गई है। वहीं बिना सब्सिडी वाले सिलेंडर के दाम 30 रुपये घट गए हैं। रसोई गैस सिलेंडर की कीमतों में करीब दो महीनों के भीतर तीसरी बार गिरावट आई है। इससे पहले, एक दिसंबर को सब्सिडी वाले सिलेंडर पर 6.52 रुपये और एक जनवरी को 5.91 रुपये की बड़ी कटौती की गई थी। इंडियन ऑयल की ओर से जारी बयान में कहा गया कि गुरुवार की मध्यरात्रि से दिल्ली में सब्सिडी वाले 14.2 किलोग्राम के गैस सिलेंडर की कीमत 493.53 रुपये होगी। वर्तमान में इस सिलेंडर की कीमत 494.99 रुपये है। इसी तरह बिना सब्सिडी वाले 14.2 किलोग्राम के सिलेंडर की कीमत में 30 रुपये की कमी आई है। आज मध्‍यरात्रि से बिना सब्‍सिडी वाले सिलेंडर की नई कीम
13 प्वाइंट रोस्टर विवाद क्या है? जिसको लेकर दिल्ली की सड़क पर हैं तेजस्वी

13 प्वाइंट रोस्टर विवाद क्या है? जिसको लेकर दिल्ली की सड़क पर हैं तेजस्वी

यूनिवर्सिटी में आरक्षण को लेकर नए सिरे से सियासी हंगामा खड़ा हो गया है. लालू प्रसाद यादव की पार्टी आरजेडी ने मोदी सरकार पर आरक्षण खत्म करने का आरोप लगाते हुए आ दिल्ली में मार्च निकाल रही है। साथ ही आरजेडी नेता और बिहार के पूर्व उप-मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा है। तेजस्वी ने क्या लिखा तेजस्वी ने ट्वीट कर कहा, ''सभी साथियों से अपील है कि मनुवादी नागपुरी सरकार द्वारा बहुजनों का गला काटकर विश्वविद्यालयों में साजिशन 13 प्वाइंट रोस्टर लागू करने के विरोध में कल 31 जनवरी को मंडी हाउस से संसद मार्ग तक के विशाल पैदल मार्च में शामिल होकर इनकी ईंट से ईंट बजायें.'' 13 प्वाइंट रोस्टर के खिलाफ आरजेडी अध्यादेश लाने की मांग कर रही है. तेजस्वी ने पीएम मोदी को लिखे पत्र में कहा, ''रोस्टर की साजिश यह है कि जब तक किसी विभाग में 4 सीटें विज्ञापित नहीं होंगी, कोई
मछली खाने वालों के लिए अच्छी खबर, बिहार में बैन हटा

मछली खाने वालों के लिए अच्छी खबर, बिहार में बैन हटा

अगर आप बिहार में रहते हैं और बैन की वजह से कई दिनों से मछली नहीं खा रहे थे तो आपके लिए अच्छी खबर है। दरअसल, आंध्र की मछलियों की बिक्री पर लगा प्रतिबंध हटा लिया गया है। स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव संजय कुमार ने इस मामले की जानकारी देते हुए बताया कि सभी तरह की मछलियों पर लगे प्रतिबंध को हटा लिया गया है। बता दें कि बिहार सरकार ने फर्मलिन पाये जाने की खबर के बाद बाहर से आयात की जाने वाली मछलियों की बिक्री पर रोक लगा दी थी। बिहार में आंध्र प्रदेश की मछलियों पर बैन को लेकर आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री की चिट्ठी के बाद बिहार सरकार ने यह कदम उठाया है। बिहार की एक टीम मछलियों की जांच के लिए आंध्र प्रदेश पहुंची। यहां इस दल ने सीएम चंद्रबाबू नायडू से भी मुलाकात की। इस मामले की जांच को बिहार के अधिकारियों का पांच सदस्यीय दल अभी आंध्र प्रदेश में है। क्या है मामला मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक
अब 12 फरवरी से नई मुश्किल में फंसेंगे शहाबुद्दीन

अब 12 फरवरी से नई मुश्किल में फंसेंगे शहाबुद्दीन

बीते मंगलवार को सीवान के चर्चित पत्रकार राजदेव रंजन हत्याकांड में पूर्व राजद सांसद मोहम्मद शहाबुद्दीन और सात अन्य के खिलाफ आरोप तय कर दिए गए। हालांकि इन आरोपों को सभी ने सिरे से खारिज किया। लेकिन अब मामले में सीबीआई की अदालत में स्पीडी ट्रायल करने के आदेश दे दिए गए हैं। यह प्रक्रिया 12 फरवरी से शुरू हो सकती है। आसान भाषा में समझें तो अब इस केस को जल्द निपटारे के लिए सीबीआई की अदालत प्रक्रिया तेज करेगी। ऐसे में पूर्व सांसद शहाबुद्दीन की मुश्किलें बढ़ने वाली हैं। बीते मंगलवार को सुनवाई के दौरान तिहाड़ जेल में बंद पूर्व सांसद शहाबुद्दीन व भागलपुर जेल में बंद अजहरुद्दीन बेग उर्फ लड्डन मियां की वीडियो कांफ्रेंसिंग से पेशी हुई जबकि मुज़फ़्फ़रपुर जेल में बंद अन्य आरोपितों विजय गुप्ता, रोहित सोनी, राजेश कुमार, रिशु जायसवाल व सोनू गुप्ता को की भी कोर्ट में पेशी कराई गई। 2016 में हुई थी पत्र
सीवान में भोजपुरी फिल्म की शूटिंग, यह है मकसद

सीवान में भोजपुरी फिल्म की शूटिंग, यह है मकसद

बिहार का सीवान जिला अब भोजपुरी फिल्मों की शूटिंग का केंद्र बनता जा रहा है। बीते कुछ सालों में कई भोजपुरी फिल्मों की शूटिंग हो चुकी है। अब बबुआ जी फिल्म प्रोडक्शन हाउस के बैनर तले बनने वाली भोजपुरी फिल्म "देखउकी" का मुहूर्त किया गया है। यह कार्यक्रम बुधवार को बड़हरिया प्रखंड के रानीपुर गांव में धूम धाम से हुआ। इस मौके पर मुंबई से आए भोजपुरी के सीनियर कलाकार विनोद मिश्रा भी मौजूद थे। क्या है मकसद फ़िल्म की कहानी बबुआ जी फ़िल्म प्रोडक्शन के निर्देशक संजय रानीपुरी ने लिखा है। फ़िल्म लोगों सामाजिक संदेश तो देगी ही, साथ ही समाज को आइना दिखाने का काम करेगी। इस फ़िल्म का निर्माण फ़िल्म फेस्टिवल के लिए किया जा रहा है। फ़िल्म का उद्देश्य समाज में लड़का और लड़की के भेदभाव को कम करना है। फ़िल्म शादी के पूर्व होने वाले देखउकी पर आधारित है। ये लोग थे मौजूद फ़िल्म का मुहूर्त गणपति पूजा के साथ हुआ। मुहूर्त म
सीवान: बेरोजगारी की त्रासदी- 76 लोगों की जरूरत, 1800 आवेदन

सीवान: बेरोजगारी की त्रासदी- 76 लोगों की जरूरत, 1800 आवेदन

वैसे तो मोदी सरकार नौकरी को लेकर विपक्ष के निशाने पर लंबे समय से है। विपक्ष का कहना है कि सरकार की ओर से हर साल 2 करोड़ नौकरी के वादे किए गए लेकिन यह सिर्फ जुमला साबित हुआ। विपक्ष के आक्रामक रवैये के अलावा देश की बेरोजगारी दर भी मोदी सरकार के लिए चिंता का सबब बन रही है। वहीं सरकार के राज्य से लेकर क्षेत्रिय नेता तक कहते रहते हैं कि नौकरी की कमी नहीं है और रोजगार का सृजन हो रहा है। कमोबेश यही बात सीवान में भी जनप्रतिनिधियों की ओर से की जाती है। लेकिन इन बड़बोलेपन की पोल खोलती है। सीवान जिला कृषि कार्यालय की आत्मा शाखा। जानकारी के मुताबिक आत्मा शाखा में लेखपाल, सहायक तकनीकी प्रबंधक, प्रखंड तकनीकी प्रबंधक की बहाली के लिए अभ्यर्थियों की काउंसलिंग शुरु है। जिले में तीनों पदों पर बहाली के लिए मात्र 76 रिक्ति है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक विभाग से मिली जानकारी के अनुसार सहायक तकनीकी प्रबंध
error: Content is protected !!